वन विभाग व वन्य जीव संस्थान के सांझा प्रयासों से राज्य में पहली बार हो रही है हिम तेंदुओं की गणना- कैमरा ट्रैप रखेगा हिम तेंदुओं पर नजर

वन विभाग व वन्य जीव संस्थान के सांझा प्रयासों से राज्य में पहली बार हो रही है हिम तेंदुओं की गणना- कैमरा ट्रैप रखेगा हिम तेंदुओं पर नजर

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- वन विभाग व वन्य जीव संस्थान देहरादून के सांझा प्रयासों से राज्य में पहली बार हिम तेंदुओं की गणना की जा रही है बीते जुलाई से शुरु इस मिशन में कैमरा ट्रैपिंग के माध्यम से हिम तेंदुओं पर नजर रखी जा रही है।

आपको बता दें हिम तेंदुवे सामान्यतया 3 हजार मीटर से अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में वास करते हैं और उत्तराखंड के चमोली,बागेश्वर, उत्तरकाशी,पिथौरागढ व रुद्रप्रयाग जिले हिम तेंदुओं के लिये अनुकूल हैं।
हिम तेंदुवे पारिस्थितिकी तंत्र के लिये काफी फायदेमंद हैं लेकिन उत्तराखंड में इनकी तादाद कितनी है इनकी संख्या को लेकर कोई ठोस प्रमाण नहीं है।


इसी को देखते हुवे वन विभाग राज्य में पहली बार हिम तेंदुओं की गणना करा रहा है।
हालांकि डीएफओ नन्दा बल्लभ शर्मा(नन्दा देवी नेशनल पार्क) इसे काफी चुनौतीपूर्ण मानते हैं चूंकि हिम तेंदुओं की मौजूदगी हमेशा से उत्सुकता का विषय रही है इसी को देखते हुवे पहली बार ये पहल की गई है इसके लिये सभी रेंजो में जगह-जगह कैमरा ट्रैपिंग की गई है।

डीएफओ शर्मा के मुताबिक इनकी गणना फरवरी-मार्च तक पूरी हो जायेगी और गणना के आंकड़े अप्रैल-मई तक सार्वजनिक किये जायेंगे।
ये पहला अवसर होगा जब उत्तराखंड में हिम तेंदुओं का डाटा कलेक्ट होगा जिसको लेकर वन महकमा खासा उत्साहित है।।।।

उत्तराखंड