शिक्षा मंत्री डॉ० धन सिंह रावत का बयान कहा- विद्यालयी शिक्षा के पाठ्यक्रम में वेद,उपनिषद व गीता को शामिल करने पर हो रहा है विचार- लोगों से मांगे जायेंगे सुझाव

शिक्षा मंत्री डॉ० धन सिंह रावत का बयान कहा- विद्यालयी शिक्षा के पाठ्यक्रम में वेद,उपनिषद व गीता को शामिल करने पर हो रहा है विचार- लोगों से मांगे जायेंगे सुझाव

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री डॉ० धन सिंह रावत ने कहा कि भविष्य में विद्यालयी शिक्षा के पाठ्यक्रम में वेद, उपनिषद व गीता को शामिल करने का प्रयास किया जायेगा जिसके लिए आम लोगों से सुझाव आमंत्रित किये जायेंगे।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम से देशभर के लाखों बच्चों का मनोबल बढ़ा है। इसी प्रकार प्रदेश में भी परीक्षा से पूर्व तनाव को दूर करने के लिए बच्चों को मनोवैज्ञानिक परामर्श दिया जाना जरूरी है।
उन्होंने कहा कि इसके लिए अध्यापकों एवं अभिभावकों को अपने-अपने स्तर से प्रयास करने चाहिए ताकि बच्चे परीक्षा को एक उत्सव समझकर प्रतिभाग कर सके। इसके अलावा सेमेस्टर अथवा वार्षिक परीक्षाओं से पूर्व प्रत्येक माह मासिक परीक्षाओं का आयोजन कर बच्चों को मुख्य परीक्षाओं के लिए तैयार किया जायेगा।
मंत्री धन सिंह रावत ने बाल अधिकार संरक्षण आयोग में शिकायतों के बढ़ते प्रकरणों के बोझ को कम करने के लिए एक समन्वय समिति के गठन किये जाने पर बल देते हुवे कहा कि ब्लॉक स्तर पर भी बच्चों को मनोवैज्ञानिक परामर्श दिये जाने की व्यवस्था होनी चाहिए जिसमें आयोग के सदस्य अहम भूमिका निभा सकते हैं।

उत्तराखंड