बागेश्वर के सूपी में कोरोना का खतरा- कंटेनमेंट जोन के साथ पुलिस का पहरा

बागेश्वर के सूपी में कोरोना का खतरा- कंटेनमेंट जोन के साथ पुलिस का पहरा

रिपोर्ट- बागेश्वर(उत्तराखंड)
बागेश्वर-(उत्तराखंड)- चारों तरफ हरियाली,मनोरम घाटियां,टेड़ी मेड़ी पगडंडियों से जुड़ा स्वर्ग की परिकल्पना को साकार करता ये है बागेश्वर के कपकोट ब्लॉक का सूपी गांव लेकिन आजकल ये गांव कोरोना की चपेट में है दिल्ली और गोवा से वापस गांव लौटे युवाओं की लापरवाही से पूरा गांव संक्रमण की चपेट में आ गया है।

दरअसल दिल्ली और गोवा से आये तीन युवाओं ने होम क्वारन्टीन नियमों का पालन नही किया नतीजा इस सुंदर गांव पर कोरोना का ग्रहण लग गया।
ग्राम प्रधान तारा सिंह की पहल के बाद जिले के सीएमओ से कोरोना टेस्टिंग का अनुरोध किया गया जिसके बाद 196 लोगों का टेस्ट कराया गया जिसमें 26 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले इसके बाद से गांव के लोग डरे सहमे हैं भय का आलम ये कि हमेशा ग्रामीणों की आवाजाही से गुलजार रहने वाले खेत खलिहानों में सन्नाटा पसर गया।

प्रशासन द्वारा इसके बाद तल्ला सूपी को कंटेनमेंट जोन बना दिया गया और गांव से संपर्क वाले सभी 6 रास्तों पर बैरिकेटिंग कर पुलिस का पहरा बिठा दिया गया है ताकि ना तो कोई बाहरी गांव में आये और ना ही कोई गांव से बाहर जा सके।
हालाकि स्थानीय प्रशासन लगातार सूपी गांव पर नजर बनाये हुवे है और गांव में खाद्यान्नपूर्ति के साथ ही सेनेटाइजेशन की भी व्यवस्था की जा रही है लेकिन गांव में भय का माहौल अभी भी बरकरार है।


प्रकृति पर पूरी तरह निर्भर खेती खलिहानी कर बीमारियों से कोसों दूर सूपी गांव में कुछ लोगों की जरा सी लापरवाही से कोरोना पाँव पसार चुका है।
हम प्रशासन से मांग करते है कि कोविड़ गाइड लाइन का सख्ती से पालन कराया जाये जिससे फिर किसी गांव में सूपी जैसे हालात ना पनपें।।।।

उत्तराखंड