मांग दिवस- कोरोना काल में आशाओं को स्वास्थ्य सुरक्षा व कोरोना भत्ता दिए जाने की उठी मांग

मांग दिवस- कोरोना काल में आशाओं को स्वास्थ्य सुरक्षा व कोरोना भत्ता दिए जाने की उठी मांग

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- स्कीम वर्कर्स के राष्ट्रीय फेडरेशन “ऑल इंडिया स्कीम वर्कर्स फेडरेशन के आह्वान पर सोमवार को पूरे देश में स्कीम वर्कर्स की माँगों को लेकर “मांग दिवस मनाया गया।
नैनीताल के जिला चिकित्सालय बीडी पाण्डे में आशा कार्यकर्ती संगठन की प्रदेश अध्यक्ष कमला कुंजवाल के नेतृत्व में सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया गया।
आशा कार्यकर्ताओं ने कहा है कि हर स्वास्थ्य संकट के समय आशाओं समेत सभी स्कीम वर्कर्स को काम में झौंक दिया जाता है लेकिन उनके वेतन भत्ते और स्वास्थ्य संबंधी सुरक्षा को दरकिनार कर दिया जाता है जो कि गलत है।

कोरोना ड्यूटी में फ्रंटलाइन वर्कर्स होने के बावजूद आशा वर्कर्स को पीपीई किट तो छोड़ दीजिए न्यूनतम जरूरी मास्क, ग्लब्ज और सेनेटाइजर तक उपलब्ध नहीं कराए जा रहे हैं ये उन्हें स्वयं खरीदने पड़ रहे हैं इतना ही नही कोरोना संक्रमित होने पर उन्हें स्वयं ही इलाज की भी जिम्मेदारी उठानी पड़ रही है।
आशाओं की मांगे:-
आशा समेत सभी स्कीम वर्कर्स को दस हजार रुपये मासिक कोरोना भत्ता दिया जाय, कोरोना काल में बिना किसी शर्त पचास लाख रुपये जीवन बीमा योजना को आशा समेत सभी स्कीम वर्कर्स पर लागू किया जाय,आशा समेत सभी स्कीम वर्कर्स को दस लाख रुपए स्वास्थ्य बीमा की गारंटी की जाय।


कोरोना ड्यूटी के दौरान आशा संकेत सभी स्कीम वर्कर्स को सुरक्षा उपकरण हर हाल में मुहैया कराए जाए,आशा समेत सभी स्कीम वर्कर्स के परिवार के सदस्यों को प्राथमिकता के आधार पर कोविड वैक्सीन लगायी जाए।
इस दौरान हेमा पाठक,दीपा कनवाल,हेमा जोशी गीता आर्य,सुमन बिष्ट,भगवती शर्मा,नीरू पुजारी,गीता नैनवाल,कुसमलता सनवाल,दीपा अधिकारी,पुष्पा मेहरा प्रेमा पंत,चंद्रा सती,शांति आर्य,हेमा आर्य,राधा राणा,कांति मनराल,रमा गैड़ा आदि मौजूद रहे।

उत्तराखंड