बारिश की दोहरी मार- आफत में काश्तकार

बारिश की दोहरी मार- आफत में काश्तकार

रिपोर्ट- गंगा सिंह बिष्ट
नैनीताल-(धानाचूली)- दो दिन से लगातार हो रही बारिश से जहां जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है वहीं दूसरी ओर बारिश काश्तकारों पर आफत बनकर बरसी है इससे काश्तकारों की फसलों को भारी नुकसान हुआ है।

पहले से ही काश्तकार दोहरी मार झेलते आ रहे हैं बताते चलें कि धारी विकासखंड फल पट्टी एवं आलू उत्पादक क्षेत्र माना जाता है अगस्त 2020 से बारिश ना होने के कारण यह क्षेत्र सूखे की चपेट में आ गया था जिसमें गेहू,जौ,मटर एवं आलू को नुकसान पहुंचने से काश्तकार हलकान थे उसके बाद मई माह में ओलावृष्टि होने से फल आडू खुमानी,पूलम,सेब को ओलों से भारी क्षति हुई है।
काश्तकार पान सिंह ने कहा कोरोनाकाल में लॉकडाउन के चलते आडू पुलम का उचित दाम हल्द्वानी मंडी में नहीं मिल पा रहा है क्योंकि फल में ओले का दाग है जिससे की लागत भी वसूल नहीं हो पा रही है।प्रगतिशील काश्तकार शोबन सिंह ने बताया कि इस बार किसानों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है एक और सूखे की चपेट दूसरी और ओलावृष्टि से किसानों के फल का उचित दाम न मिलने से किसान परेशान हैं।


काश्तकार नारायण सिंह ने बताया कि इस बार किसानों को मौसम की मार के चलते भारी नुकसान हो गया है पहले सूखा फिर ओलावृष्टि और 2 दिनों से लगातार हो रही बारिश से आलू सड़ने का अंदेशा है भारी बारिश के कारण कृषि योग्य भूमि की मेड़े टूट चुकी हैं तथा खेतों में पानी भर गया है जिससे आलू सड़ने का डर सता रहा है।
पूर्व प्रधान गणेशराम ने बताया कि बारिश से किसानों को भारी नुकसान के साथ ही जल संस्थान द्वारा बनाया गया जल संचय केंद्र में मलवा आने से क्षतिग्रस्त हो गया है जिससे गांव में पेयजल आपूर्ति ठप पड़ी है।
पूर्व ज्येष्ठ प्रमुख जीवन सिंह बर्गली ने बताया कि 2 दिनों से लगातार हो रही भारी बारिश से आलू की फसल को नुकसान होने का डर किसानों को सता रहा है।

किसान केदार दत्त मेलकानी ग्राम सकदीना के मकान में मलवा आने से दीवार ढह गई है किसानों ने प्रशासन से क्षेत्र में बारिश से हुए नुकसान का स्थलीय निरीक्षण करने की मांग की है।

उत्तराखंड