लोगों को आर्थिक मदद के साथ-साथ मानसिक संबल भी दे रही है आर्ट ऑफ लिविंग संस्था

लोगों को आर्थिक मदद के साथ-साथ मानसिक संबल भी दे रही है आर्ट ऑफ लिविंग संस्था

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- कोरोना काल में विपरीत परिस्तिथियों के बीच लोगों को ध्यान,योग और आर्थिक मदद के साथ-साथ मानसिक संबल देने वाली आर्ट ऑफ लिविंग संस्था ने सूबे की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मुलाकात कर संस्था द्वारा मानवता की सेवा में किये गये कार्यो को बताया जिस पर राज्यपाल ने खुशी जताते हुवे संस्था को बधाई दी।
मानवता की सेवा,तनाव निष्कासन,द्वंद्व समाधान, समुदाय का विकास,महिला सशक्तिकरण,ध्यान,योग और दैनिक जीवन में व्यावहारिक ज्ञान को जन-जन तक बांटने वाली आर्ट ऑफ लिविंग संस्था द्वारा निरंतर जन कल्याणकारी कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।
कोरोना काल में प्रभावित लोगों की मदद करने के लिये भी संस्था ने सराहनीय प्रयास किये जिसमें महिलाओं,बच्चों और बेसहाराओं की मदद कर समुदाय के विकास में भागीदारी सुनिश्चित की।

उत्तराखंड में भी आर्ट ऑफ लिविंग संस्था ने राज्यभर में कोरोना से प्रभावित लोगों की मदद को हाथ बढ़ाते हुवे तमाम कार्यक्रम किये।
आर्ट ऑफ लिविंग संस्था की उत्तराखंड अपैक्स मेम्बर रेशमा टंडन बताती है कि संस्था द्वारा कोरोना काल में महिलाओं और बच्चों के लिये ऑनलाइन कोविड़ केयर प्रोग्राम चलाये गये जिसमें उनको संकट की घड़ी में जीवन यापन करने के साथ ही ध्यान व योग की क्रियाओं के बारे में बताया गया इतना ही नही जिन लोगों का रोजगार छूट गया था उनको नए सिरे से रोजगार से जोड़ने के लिये आर्थिक मदद मुहैया कराई गई साथ ही महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये सिलाई मशीनों का वितरण किया गया।


संस्था द्वारा किये गये कल्याणकारी कार्यो की सूबे की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने सराहना करी और आभार जताया।
इस दौरान कविता गंगोला,ज्योति मेहरा,सुनीता वर्मा,पूजा शाही,मंजू नेगी व प्रेमा गोसाई सहित संस्था के तमाम सदस्य मौजूद रहे।

उत्तराखंड