तीसरी  लहर की आशंका को देखते हुवे नैनीताल सहित पहाड़ी क्षेत्रों में  आने वाले सैलानियों पर पुलिस की पैनी नजर- मेडिकल टीम के साथ 222 पर्यटकों के कराये रैपिड एंटीजन टेस्ट

तीसरी लहर की आशंका को देखते हुवे नैनीताल सहित पहाड़ी क्षेत्रों में आने वाले सैलानियों पर पुलिस की पैनी नजर- मेडिकल टीम के साथ 222 पर्यटकों के कराये रैपिड एंटीजन टेस्ट

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- कोरोना काल के दौरान कर्फ्यू में मिली आंशिक छूट के बाद दिल्ली,एनसीआर व आसपास के क्षेत्रों से नैनीताल घूमने आने वाले सैलानियों की संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी होने लगी है।

तपिश भरी गर्मी से राहत पाने के लिये बड़ी संख्या में पहाड़ों की तरफ रुख कर रहे सैलानियों के रेले ने शासन-प्रशासन के सामने भी बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है।


जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन की तरफ से इन्हीं तमाम दिक्कतों को देखते हुवे नैनीताल,भीमताल व मुक्तेश्वर के लिये नई गाइड लाइन जारी की है जिसमें बिना आरटीपीसीआर रिपोर्ट व पूर्व में होटल की बुकिंग के सैलानियों के शहर में प्रवेश पर रोक लगा दी है।

नैनीताल में आज पुलिस द्वारा पूरी मुस्तैदी के साथ एंट्री प्वाइंट पर सघन चैकिंग अभियान चलाया गया और इस बात का ध्यान रखा गया कि कोई भी व्यक्ति फर्जी आरटीपीसीआर के शहर में प्रवेश ना कर पाएं इतना ही नही नैनीताल शहर में भी पुलिस ने स्वास्थ्य टीमों के साथ बारापत्थर,तल्लीताल टोल टैक्स व मल्लीताल रिक्शा स्टैण्ड चौकी पर बिना मास्क घूम रहे सैलानियों का चालान किया और उनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट चेक करी इस दौरान करीब 222 सैलानियों के रैपिड एंटीजन टेस्ट किये जिसमें सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

बीड़ी पाण्डे जिला अस्पताल के पीएमएस डॉ धामी ने कहा सुरक्षा के मद्देनजर स्वास्थ्य टीमों को शहर के प्रवेश द्वारों में लगाया गया है जिससें कि संक्रमित होने वाले व्यक्ति को कोविड़ सेंटर भेजा जा सके।
वहीं कोतवाल अशोक कुमार ने बताया कि एसएसपी के निर्देशन में चैकिंग अभियान चलाया जा रहा है जिससें कि बगैर आरटीपीसीआर रिपोर्ट के कोई भी सैलानी गुपचुप तरीके से शहर में प्रवेश ना करें उन्होंने कहा कि सैलानियों के साथ ही स्थानीय जनता से लगातार सामाजिक दूरी बनाने व मास्क लगाने की अपील की जा रही है जिससें कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर के प्रकोप से बचा जा सकें।।।

उत्तराखंड