आशाओं का विरोध- 12 सूत्रीय मांगों पर मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

आशाओं का विरोध- 12 सूत्रीय मांगों पर मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- आशा हेल्थ वर्कर्स यूनियन के बैनर तले शुक्रवार को नगर के तल्लीताल स्थित गांधी पार्क में अपनी 12 सूत्रीय मांगो को लेकर आशा कार्यक्रतियो द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया तथा डीएम धीराज गर्ब्याल के माध्यम से मुख्यमंत्री पुष्कर धामी को ज्ञापन भेजा गया।
आशाओं को मातृ-शिशु मृत्यु दर को कम करने के लिए नियुक्त किया गया था लेकिन उसके बाद से ही आशाओं पर विभिन्न सर्वे और काम का बोझ लगातार बढ़ाया गया है। दिक्कत की बात यह है कि काम तो आशाओं से लिया जाता है किंतु उनकी मेहनत का भुगतान नहीं किया जाता।
आशाओं की मांगे:-
आशा वर्करों को सरकारी कर्मचारी का दर्जा और न्यूनतम 21 हजार वेतन लागू किया जाय।
जब तक मासिक वेतन और कर्मचारी का दर्जा नहीं मिलता तब तक आशाओं को भी अन्य स्कीम वर्कर्स की तरह मासिक मानदेय फिक्स किया जाय। सभी आशाओं को सेवानिवृत्त होने पर पेंशन का प्रावधान किया जाय। आशाओं की पैदल ड्यूटी करते करते घुटनों में दिक्कतें आ गई हैं उनके लिए एक मुश्त पैकेज की घोषणा की जाय।
पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा घोषित कोरोना भत्ता तत्काल आशाओं के खाते में डाला जाय और कोविड कार्य में लगी सभी आशा वर्करों को कोरोना ड्यूटी की शुरुआत से 10 हजार मासिक कोरोना-भत्ता भुगतान किया जाय। कोविड कार्य में लगी आशाओं वर्करों की 50 लाख का जीवन बीमा और 10 लाख का स्वास्थ्य बीमा लागू किया जाय।

कोरोना ड्यूटी के क्रम में मृत आशा वर्करों के आश्रितों को 50 लाख का बीमा और 4 लाख का अनुग्रह अनुदान भुगतान किया जाए।
उड़ीसा की तरह ऐसे मृत कर्मियों के आश्रित को विशेष मासिक भुगतान किया जाय।सेवा(ड्यूटी) के समय दुर्घटना, हार्ट अटैक या बीमारी होने की स्थिति में आशाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए नियम बनाया जाय और न्यूनतम दस लाख रुपये मुआवजे का प्रावधान किया जाय।
देय मासिक राशि और सभी मदों का बकाया सहित समय से भुगतान किया जाय।आशाओं के विविध भुगतानों में नीचले स्तर पर व्याप्त भ्रष्टाचार व कमीशनखोरी पर लगाम लगायी जाय। सभी सरकारी अस्पतालों में विशेषज्ञ डॉक्टरों की नियुक्ति तत्काल की जाय। आशाओं के साथ अस्पतालों में सम्मानजनक व्यवहार किया जाय। जब तक कोरोना ड्यूटी के लिए अलग से मासिक भत्ते का प्रावधान नहीं किया जाता तब तक आशाओं की कोरोना ड्यूटी न लगायी जाय।


इस दौरान आशा हेल्थ वर्कर्स की प्रदेश अध्यक्ष कमला कुंजवाल,यशोदा देवी,दीपा कंडवाल,अनीता आर्य,सुनीता आर्य,कुसुमलता,हेमा आर्य,तुलसी बिष्ट,सुधा आर्य, भगवती शर्मा,गीता नैनवाल अनीता,दुर्गा टम्टा,प्रेमा बिष्ट, हेमा आर्य,गंगा आर्य सहित तमाम आशा कार्यकर्ता मौजूद रहीं।

उत्तराखंड