दीक्षा हत्याकांड में नैनीताल पुलिस को बड़ी कामयाबी- 36 घंटे के भीतर गिरफ्त में आरोपी

दीक्षा हत्याकांड में नैनीताल पुलिस को बड़ी कामयाबी- 36 घंटे के भीतर गिरफ्त में आरोपी

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- दीक्षा हत्याकांड के आरोपी को महज 36 घंटे के भीतर गरफ्तार कर नैनीताल पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल की है।
15 अगस्त की रात नगर के मल्लीताल होटल में नोएडा गौतमबुद्ध नगर निवासी 30 वर्षीय दीक्षा मिश्रा की हत्या का पता 16 अगस्त की दोपहर करीब साढ़े 11 बजे लगा था। इसके बाद पुलिस ने कोतवाली पुलिस की टीम एसआई नितिन बहुगुणा की अगुवाई में गठित टीम आरोपी की तलाश में निकल पड़ी और 17 अगस्त की रात्रि ही यानी करीब 36 घंटों के अंतराल में आरोपी इमरान उर्फ ऋषभ निवासी फ्लैट नम्बर 303 होरिजन होम्स शाहबेरी नोएडा एक्सटेंशन गौतमबुद्ध नगर उत्तर प्रदेश को गाजियाबाद से पकड़ लिया गया।

जिसके बाद उसको नैनीताल लाया गया और पूछताछ के बाद कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया।
जानकारी के अनुसार मृतक दीक्षा को पता था की ऋषभ का असली नाम इमरान है, हालांकि मृतका ने अपने परिजनों को यह बात नहीं बताई थी महिला की पहली शादी वर्ष 2007 में ठेकेदार पवन कुमार से हुई थी। दोनों की 13 वर्षीय बेटी है, जो मां के साथ रहती थी। पवन व महिला के बीच तलाक का मामला इटावा की कोर्ट में विचाराधीन है। महिला ने एक वर्ष पूर्व इमरान से निकाह किया था, और वह सोसायटी में अपने खुद के फ्लैट में रहती थी।


पत्रकारों को संबोधित करते हुए एएसपी देवेंद्र पिंचा ने बताया की आरोपी इमरान को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया गया है और पूछताछ में उसने बताया कि एक वर्ष से वे दोनों लिव इन में रह रहे थे लेकिन बीते दो तीन महीनों से उनकी आपस में काफी मनमुटाव चल रहा था जिसके चलते आए दिन दोनों के बीच झगड़ा होता रहता था और 15 अगस्त की रात भी किसी बात को लेकर उनमें काफी कहासुनी हुई थी जिस पर मृतक दीक्षा ने उसको थप्पड़ मार दिया था और जबाब में उसने भी उसको थप्पड़ मारा तो उसका सर दीवार से टकरा गया जिससे उसका रक्तस्राव होने लगा, और जिसके बाद आवेश में आकर उसने दीक्षा की गला दबाकर हत्या कर दी और फरार हो गया। आरोपी के अनुसार वह मृतक दीक्षा से काफी परेशान हो गया था लेकिन नैनीताल उसको मारने के मकसद से नही लाया था।

एएसपी ने बताया कि एसएसपी की और से गिरफ्तारी टीम को 2500 रुपए की राशि से सम्मानित किया जाएगा।
गिरफ्तारी टीम में उप निरीक्षक नितिन बहुगुणा,कांस्टेबल जगपाल सिंह,एसओजी कांस्टेबल त्रिलोक सिंह,एसओजी कांस्टेबल कुंदन सिंह कठायत मौजूद थे।

उत्तराखंड