बबियाड में ग्रामीणों ने श्रमदान कर 14 वर्ष से क्षतिग्रस्त सड़क को किया पुनर्जीवित

बबियाड में ग्रामीणों ने श्रमदान कर 14 वर्ष से क्षतिग्रस्त सड़क को किया पुनर्जीवित

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- भीमताल विधानसभा के ब्लॉक धारी की ग्राम सभा बबियाड में ग्रामीणों ने श्रमदान कर पिछले 14 वर्षों से क्षतिग्रस्त सड़क को पुनर्जीवित कर दिखाया है इस कार्य में ग्रामीणों का साथ जिला पंचायत सदस्य लाखन सिंह नेगी ने दिया जिनका आज ग्रामीणों ने भव्य स्वागत किया।

आपको बता दें कि ब्लॉक धारी की ग्रामसभा बबियाड के गेडाखान गाँव में पीडब्ल्यूडी की पदमपुरी-हैड़ाखान-काठगोदाम सड़क पर वर्ष 2006 में करीब 32 लाख रुपए की लागत से चार किलोमीटर तक सुरक्षा दीवार बनाई गई थी मगर यह दीवार वर्ष 2007 में धंस गई और वाहनों का आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया इसके बाद वर्ष 2013 की आपदा में यह पूरी तरह से बह गई तभी से ग्रामीण सड़क की मांग को लेकर कई जनप्रतिनिधियों से मुलाकात कर चुके थे मगर सफलता कहीं नहीं मिली। जिला पंचायत सदस्य लाखन सिंह नेगी पहली बार 24 सितम्बर को यहाँ जन समस्याओं को सुनने पहुंचे तो ग्रामीणों ने उन्हें अपनी पीड़ा बताई उसके बाद लाखन सिंह ने समस्या को गंभीर मानते हुए अगले ही दिन 25 सितम्बर को यहाँ जेसीबी भेजकर और ग्रामीणों के श्रमदान से सड़क पुनर्निर्माण कार्य शुरू कराया। ग्रामीणों ने आज जिला पंचायत सदस्य लाखन सिंह नेगी का भव्य स्वागत किया और आभार जताते हुए अपना पूर्ण समर्थन देने की बात कही।


इस मौके पर जिला पंचायत सदस्य लाखन सिंह नेगी ने कहा कि हर कार्य संभव है बस नजरिये की जरूरत है मैं गर्व के साथ कह सकता हूं कि ईश्वर ने मुझे वह नजरिया दिया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों के श्रमदान के बिना यह कार्य असम्भव था मगर सभी ग्रामीणों ने एकजुटता दिखाई और सड़क के लिए 14 वर्ष के वनवास को खत्म किया। उन्होंने कहा कि राजनीति तो सभी करते हैं मगर बड़ी बड़ी बातों और सपने दिखाने के अलावा धरातल पर कार्य कोई नहीं करता है और सभी ने ग्रामीणों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया।
उन्होने कहा कि वे नेता नहीं बल्कि बेटा बनकर काम करते हैं बेटा बनकर काम करने में उनको आनंद आता है।
इस दौरान प्रधान प्रतिनिधि दया किशन,राधा कृष्ण,वरिष्ठ नागरिक प्रेम बल्लभ,तुलसी देवी,शांति देवी,भोला बडोला, कौस्तुभ आनंद,नारायण दत्त, चंद्रमणि दुर्गादत,देवकी देवी, मनोहरी देवी,भवानी देवी,हेमा देवी,तुलसी देवी,सीमा देवी, पुष्पा देवी,शांति देवी,बसंती देवी,गंगा देवी,जगदीश सम्मल, पूरण सुयाल,गोपाल दत्त आदि ग्रामीण मौजूद रहे।

उत्तराखंड