डीआईजी डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने शहर की यातायात व्यवस्था का लिया जायजा- पर्यटक पुलिस चौकियों को सुव्यवस्थित करने के दिये निर्देश कहा- सैलानियों को सुगम व सुरक्षित पर्यटन कराना पुलिस की प्राथमिकता

डीआईजी डॉ. नीलेश आनंद भरणे ने शहर की यातायात व्यवस्था का लिया जायजा- पर्यटक पुलिस चौकियों को सुव्यवस्थित करने के दिये निर्देश कहा- सैलानियों को सुगम व सुरक्षित पर्यटन कराना पुलिस की प्राथमिकता

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- पर्यटन नगरी नैनीताल सहित आसपास के भीमताल,मुक्तेश्वर,रामगढ़, पंगुट व रामनगर में सैलानियों की भारी आमद के बाद से एक बार फिर पर्यटन कारोबार को रफ्तार मिली है और सभी होटल व सराय सैलानियों से गुलजार हैं।
पिछले चार दिनों में रिकॉर्ड तोड़ सैलानी पहाड़ों का रुख कर चुके हैं और अभी भी ये सिलसिला जारी है।
ऐसे में पुलिस की जिम्मेदारियां भी बढ़ जाती हैं एक तरफ जहां सैलानियों सुरक्षा प्राथमिकता होती है तो वहीं दूसरी ओर यातायात व्यवस्था को व्यवस्थित करना एक बड़ा चैलेंज होता है मगर नैनीताल पुलिस ने उक्त दोनों ही चैलेंज को स्वीकार कर बेहतर व्यवस्था को बनाने में अहम भूमिका निभाई।
कुमाऊं मंडल के डीआईजी डॉ. नीलेश आनंद भरणे खुद इसकी मॉनिटरिंग करते हुवे जगह-जगह हालातों का जायजा लिया और मोर्चे पर तैनात पुलिस अधिकारियों व जवानों का मनोबल भी बढ़ाया और जरूरी निर्देश भी दिये।
नैनीताल शहर में आज डीआईजी भरणे ने मल्लीताल व तल्लीताल स्थित पर्यटक पुलिस चौकियों का निरीक्षण किया और यातायात व्यवस्थाओं की हकीकत को जाना।

इस मौके पर डीआईजी भरणे ने कहा कि नैनीताल के अलावा पूरे रीजन में सैलानियों की बढ़ती आमद को देखते हुवे कई तरह के प्लान बनाये गये हैं और यातायात व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिये अतिरिक्त फोर्स मंगाया गया है जो हर मोर्चे पर तैनात रहेंगे।
डीआईजी ने कहा उनकी तरफ से सभी पर्यटक पुलिस चौकियों को निर्देश दिये गये हैं कि वो अपने वहाँ सुझाव रजिस्टर रखें जिसमें सैलानियों के सुझावों व अनुभवों का पता चल सके।
उन्होंने कहा जब तक उच्चाधिकारी फील्ड विजिट नहीं करते तब तक वास्तविक स्थितियों का पता नहीं लगता इसलिये वो खुद मौके पर जाकर जायजा ले रहे हैं इससे पुलिस अधिकारियों व जवानों का मनोबल भी बढ़ता है।

उत्तराखंड