आज से खुल गए हैं बद्रीनाथ के कपाट “जय बदरीविशाल” के जयकारों से गूंज उठा धाम- कपाट खुलने से पहले ही अखंड ज्योति के दर्शनों को पहुंचे हजारों श्रद्धालु बाबा के धाम

आज से खुल गए हैं बद्रीनाथ के कपाट “जय बदरीविशाल” के जयकारों से गूंज उठा धाम- कपाट खुलने से पहले ही अखंड ज्योति के दर्शनों को पहुंचे हजारों श्रद्धालु बाबा के धाम

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- लंबे इंतजार के बाद आज सुबह बद्रीनाथ मंदिर के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं।
कपाट खुलने से पहले मंदिर को भव्य तरीके से सजाया गया था बद्रीनाथ मंदिर को 15 क्विंटल फूलों से सजाया गया। कल ही मंदिर में आदि गुरु शंकराचार्य जी की गद्दी,रावल जी,श्री उद्धव जी,श्री कुबेर जी, देव डोलियां बद्रीनाथ पहुंच चुकी थीं।

डोलियों को गढ़वाल स्काउट की बैंड धुन के साथ मंदिर तक लाया गया।
मंदिर में पहले दिन ही दर्शन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे हुए हैं इसलिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।
सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम:-
उत्तराखंड के चमोली जिले की SP श्वेता चौबे ने बताया ‘बद्रीनाथ धाम को सुरक्षा के लिहाज से 5 सेक्टर में बांटा गया है और बड़ी संख्या में सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए हैं सुरक्षा व्यवस्था के पूरे इंतज़ाम किए गए हैं।
पूरी यात्रा के लिए हमने लगभग 3 सीओ,9 इंस्पेक्टर, 26 सब इंस्पेक्टर और पर्याप्त संख्या में PSE,SDRF, फायर यूनिट की तैनाती की है। दो रूट जो गौचर से लेकर बद्रीनाथ धाम के लिए हैं, उसे हमने 5 सेक्टर में बांटा हैं। 6 सीजनल चौकियों को पूरी यात्रा के लिए संचालित किया गया है।’
जयकारों से गूंज उठा धाम:-
यह मंदिर जिसे बद्रीनारायण मंदिर भी कहा जाता है, चार धामों (चार महत्वपूर्ण तीर्थों) में से एक है।
यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ नामक चार तीर्थ-स्थल हैं, जिनके कपाट पहले ही खुल चुके हैं।
आज सुबह 6 बजकर 15 मिनट पर वैदिक मंत्रोच्चार के साथ जैसे ही भगवान बदरीनाथ के कपाट खुले तो पूरा धाम में ‘जय बदरीविशाल’ के जयकारों से गूंज उठा।

उत्तराखंड