धूमधाम से मनाया गया महान संत और हनुमान जी के अनन्य उपासक बाबा के पावन “कैंची धाम” का स्थापना दिवस- हजारों की संख्या में पहुंचे देश-विदेश के भक्त- बाबा के जयकारों से गुंजा कैंची धाम

धूमधाम से मनाया गया महान संत और हनुमान जी के अनन्य उपासक बाबा के पावन “कैंची धाम” का स्थापना दिवस- हजारों की संख्या में पहुंचे देश-विदेश के भक्त- बाबा के जयकारों से गुंजा कैंची धाम

रिपोर्ट- नैनीताल
नैनीताल- उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्थित शिप्रा नदी के किनारे बसे महान संत और हनुमान जी के अनन्य उपासक बाबा नीम करौली के “कैंची धाम” का स्थापना दिवस बड़े ही धूमधाम के साँथ मनाया गया जिसमें हजारों की संख्या में देशी-विदेशी भक्तों ने धाम पहुंचकर बाबा के दर्शन किये और पुण्य लाभ अर्जित किया।
दो साल बाद कैंची धाम में मनाये गये स्थापना दिवस को लेकर भक्तों में जबरदस्त उत्साह देखा गया और हर कोई बाबा नीम करौली के दर्शनों को आतुर लंबी लंबी कतारों में नजर आये और पूरा वातावरण भक्तिमय के साँथ ही बाबा के जयकारों से गुंजायमान हो गया।
बाबा नीम करौली ने निर्जीव स्थान कैंची आकर यहाँ हमुनान जी का मंदिर बनाया और स्थापना करी उन्होंने कहा था कि यहाँ पर एक भव्य मंदिर बनेगा और देश-विदेश से लोग आयेंगे जिसका उनको पुण्य लाभ मिलेगा और ये स्थान एक दिन पूरे विश्व में प्रसिद्ध होगा बाबा नीम करौली की भविष्यवाणी सच हुई और आज ये उत्तराखंड के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में सुमार हो गया है और लोगों की धाम के प्रति गहरी आस्था व अगाध विश्वास का केंद्र भी बन गया है।
मंदिर समिति के प्रबंधक विनोद जोशी ने बताया कि 1962 में बाबा जी महाराज के पावन चरण कैंची की भूमि पर पड़े और उन्होंने इस स्थान को लेकर जो भी भविष्यवाणियां की थी वो आज सच हुई हैं और आज इस स्थान ने धाम का स्वरुप ले लिया है।

विनोद जोशी ने बताया कि बाबा नीम करौली महाराज द्वारा चलाई गई परिपाठी का पालन करते हुवे आज के दिन विशाल भंडारे का आयोजन किया जाता है जिसमें प्रसाद के रुप में मलपुवे वितरित किये जाते हैं।
आज भी सुबह बाबा जी को मलपुवे का भोग लगाया गया उसके बाद भक्तों को प्रसाद वितरण किया गया जिसमें हजारों भक्तों ने बाबा जी के दर्शन कर प्रसाद ग्रहण किया।
बाबा जी की महिमा को देखते हुवे इस बार 3 लाख मलपुवे बनाये गये थे जिनको करीब 200 कुंतल आटे से तैयार किया गया।
इस दौरान सुरक्षा के मद्देनजर कड़े इंतजामात किये गये थे साँथ ही यातायात व्यवस्था को ध्यान में रखते हुवे रुट डाइवर्जन भी किया गया था।
इस मौके पर कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत,डीआईजी डॉ नीलेश आनंद भरणे,डीएम धीराज गर्ब्याल व एसएसपी पंकज भट्ट सहित तमाम प्रशासनिक अधिकारियों ने बाबा के दर्शन कर प्रसाद ग्रहण किया।

उत्तराखंड